HTML Blog Setting -

ચાલતી પટ્ટી

શિક્ષક-શિષ્યનો સંબંધ ત્યારે જ શરુ થાય છે જ્યારે બાળકનુ નામ શિક્ષકના હ્રદયરુપી રજિસ્ટરમા નોંધાય છે.-કે.બી.પટેલ~ એ જ લોકો આખરે ફાવી ગયા જે સમયસર બીજને વાવી ગયા.~ રેખાઓમાં રહ્યો અડોઅડ બિંદુઓનો ફાળો મંજિલ બીજું કાઇ નથી,બસ પગલાનો સરવાળો.~ પુસ્તક કરતાં વધારે જીવે એવી કોઈ ઇમારત માનવી બાંધી શકતો નથી.~ ધીમા જવામાં વાંધો નથી,વાંધો ઊભા રહી જવામાં છે.~ લોંખંડ ભલે ગરમ થાય ,પરંતુ હથોડાએ તો ઠંડુ જ રહેવું જોઈએ.~ વર્તમાન જ સાચો સમય છે,બીજા બધા સમય તો માત્ર ભ્રમ છે.~ દરેક કામમાં જોખમ હોય છે,પરંતુ કશું નહીં કરવામાં મોટું જોખમ હોય છે.~ પ્રેરણા એ પ્રિપેઈડ રિચાર્જ કૂપન છે.~ આપનો દ્રષ્ટિકોણ જ પ્રેરણા બને છે.~ શબ્દો કોઈને મારી શકે છે,તો તારી પણ શકે છે.~ જીવન જીતવાની નહીં,પણ જીવવાની વસ્તુ છે.~ ગુસ્સો કરવો સહેલો છે,પણ શાંત રહેવું અઘરું છે.~ સૌથી ઓછું ખર્ચાળ મનોરંજન શ્રેષ્ઠ પુસ્તકોમાંથી મળે છે અને તે કાયમી હોય છે. "Arise,Awake and NOT To STOP Till The GOAL is Reached ”- Swami Vivekananda."

23 સપ્ટેમ્બર, 2014

General Knowledge Quiz Corner


નોલેજ બેંક
  •   સ્વરાજ્ય એ મારો જન્મસિધ્ધ અધિકાર છે આ સુત્ર લોકમાન્ય તિલકે આપ્યું હતું .
  •   જય હિંદ આ સુત્ર સુભાષચંદ્ર બોઝે આપ્યું હતું .
  •   જય  જગત આ સુત્ર વિનોબા ભાવે આપ્યું હતું .
  •   ભારત છોડો નું સુત્ર ગાંધીજીએ આપ્યું હતું .
  •   કોંગ્રેસના લોકો સત્તા ના ભૂખ્યા છે આ સુત્ર મહમદઅલી ઝીણા નું હતું .
  •   હું  કાગડા કૂતરાને મોતે મરીશ પણ સ્વરાજ્ય લીધા વિના આશ્રમમાં પગ મૂકવાનો નથી આ સુત્ર ગાંધીજીએ આપ્યું હતું .

ગુજરાત રાજ્યના શિક્ષિત યુવાનોને રોજગાર ભરતી વિષયક માહિતી આપતા ગુજરાત રોજગાર સાપ્તાહિકમાં પ્રસિદ્ધ થતી General Knowledge Quiz Corner નામના વિભાગમાં પ્રસિદ્ધ કરવામાં આવે છે.  General Knowledge Quiz Corner નાં તમામ અંકોનું સંકલન કરી General Knowledge Quiz Corner 2014 તરીકે પ્રસિદ્ધ  કરવામાં આવી આ તમામ ક્વીઝ સ્પર્ધાત્મક પરિક્ષા ની તૈયારી કરી રહેલા યુવાનો ને મદદરૂપ બનશે  General Knowledge Quiz Corner 2014 ક્વીઝ માહિતી કમિશનર ગુજરાત રાજ્ય દ્વારા પ્રસિદ્ધ  કરવામાં આવી છે તેનું સંકલન અહી રજુ  કરેલ છે
ડાઉનલોડ 


मंगल के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में पहुंचा मंगलयान

Mars-Orbiter-Mission-Mangal.jpg
भारत दुनिया का चौथा देश जो मंगल के करीब पहुंचा
भारत के महत्वाकांक्षी मंगलयान ने मंगल ग्रह के गुरूत्वाकर्षण क्षेत्र में प्रवेश कर लिया है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने सोमवार को टि्वटर पर यह जानकारी दी।
मंगल ग्रह से 5.8 लाख किलोमीटर दूर से उसका गुरूत्वाकर्षण क्षेत्र शुरू हो जाता है। इसरो की योजना सोमवार को ही मंगलयान की दिशा सही करने की है और साथ ही उसके तरल ईधन का भी परीक्षण होगा।
दस महीने से सुषुप्त पड़े इसके इंजन को करीब चार सेकंड तक चालू रखा जाएगा। मंगलयान फिलहाल करीब 22 किमी प्रति सेकेंड की रफ्तार से चल रहा है और मंगल की कक्षा में प्रवेश के लिए रफतार को 1.5 किमी प्रति सेकेंड करना जरूरी है।
मंगलयान 24 सितंबर को मंगल की कक्षा में प्रवेश करेगा और इसे अलर्ट मोड में डाल दिया गया है। उसके सभी प्रमुख सेंसरों और इलेक्ट्रानिक सिस्टमों को चालू कर दिया गया है।
24 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बेंगलूर में इसरो के केंद्र में मौजूद रहकर इस ऐतिहासिक पल के गवाह बनेंगे। भारत अगर अपने मिशन में कामयाब रहता है तो वह मंगल पर सफल मिशन भेजने वाला एशिया का पहला और दुनिया का चौथा देश होगा।
कुल 450 करोड़ रुपए की लागत से तैयार मंगलयान को पिछले साल पांच नवंबर को आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा प्रक्षेपण स्थल से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी सी-25 के जरिए प्रक्षेपित किया गया था। इस यान के साथ पांच प्रयोगात्मक उपकरण लगे हैं। 

 इसरो का परीक्षण सफल, मंगलयान को सही दिशा में मोड़ा

Mars-Orbiter-Mission-Photo.jpg
19 नवंबर 2013 को मंगलयान की खींची पृथ्वी की पहली तस्वीर
मंगल की थाह लेने जा रहे भारत के महत्वाकांक्षी मिशन मंगलयान के तरल इंजन का परीक्षण आज सफल रहा और साथ ही उसके मार्ग को भी दुरुस्त कर लिया गया। इसके साथ ही अब इस यान के 24 सितम्बर को मंगल की कक्षा में प्रवेश का रास्ता साफ हो गया है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, इसरो ने टि्वटर पर जारी एक बयान में कहा कि तय कार्यक्रम के अनुसार तरल इंजन को चार सेंकेड के लिए चालू किया गया। साथ ही मंगलयान की दिशा भी दुरुस्त कर ली गई है। यान अब तय कार्यक्रम के मुताबिक मंगल की कक्षा में प्रवेश करेगा।मंगल ग्रह से 5.8 लाख किलोमीटर दूर से उसका गुरूत्वाकर्षण क्षेत्र शुरू हो जाता है। इसरो की योजना सोमवार को ही मंगलयान की दिशा सही करने की थी जिसके साथ उसके तरल ईंधन का भी परीक्षण हो गया। दस महीने से सुषुप्त पड़े इसके इंजन को करीब चार सेकंड तक चालू रखा गया। मंगलयान फिलहाल करीब 22 किमी प्रति सेकेंड की रफ्तार से चल रहा है और मंगल की कक्षा में प्रवेश के लिए रफतार को 1.5 किमी प्रति सेकेंड करना जरूरी है।
24 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बेंगलूर में इसरो के केंद्र में मौजूद रहकर इस ऐतिहासिक पल के गवाह बनेंगे। भारत अगर अपने मिशन में कामयाब रहता है तो वह मंगल पर सफल मिशन भेजने वाला एशिया का पहला और दुनिया का चौथा देश होगा।
कुल 450 करोड़ रुपए की लागत से तैयार मंगलयान को पिछले साल पांच नवंबर को आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा प्रक्षेपण स्थल से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी सी-25 के जरिए प्रक्षेपित किया गया था। इस यान के साथ पांच प्रयोगात्मक उपकरण लगे हैं। 
 

My School

Get Update Easy