HTML Blog Setting -

ચાલતી પટ્ટી

શિક્ષક-શિષ્યનો સંબંધ ત્યારે જ શરુ થાય છે જ્યારે બાળકનુ નામ શિક્ષકના હ્રદયરુપી રજિસ્ટરમા નોંધાય છે.-કે.બી.પટેલ~ એ જ લોકો આખરે ફાવી ગયા જે સમયસર બીજને વાવી ગયા.~ રેખાઓમાં રહ્યો અડોઅડ બિંદુઓનો ફાળો મંજિલ બીજું કાઇ નથી,બસ પગલાનો સરવાળો.~ પુસ્તક કરતાં વધારે જીવે એવી કોઈ ઇમારત માનવી બાંધી શકતો નથી.~ ધીમા જવામાં વાંધો નથી,વાંધો ઊભા રહી જવામાં છે.~ લોંખંડ ભલે ગરમ થાય ,પરંતુ હથોડાએ તો ઠંડુ જ રહેવું જોઈએ.~ વર્તમાન જ સાચો સમય છે,બીજા બધા સમય તો માત્ર ભ્રમ છે.~ દરેક કામમાં જોખમ હોય છે,પરંતુ કશું નહીં કરવામાં મોટું જોખમ હોય છે.~ પ્રેરણા એ પ્રિપેઈડ રિચાર્જ કૂપન છે.~ આપનો દ્રષ્ટિકોણ જ પ્રેરણા બને છે.~ શબ્દો કોઈને મારી શકે છે,તો તારી પણ શકે છે.~ જીવન જીતવાની નહીં,પણ જીવવાની વસ્તુ છે.~ ગુસ્સો કરવો સહેલો છે,પણ શાંત રહેવું અઘરું છે.~ સૌથી ઓછું ખર્ચાળ મનોરંજન શ્રેષ્ઠ પુસ્તકોમાંથી મળે છે અને તે કાયમી હોય છે. "Arise,Awake and NOT To STOP Till The GOAL is Reached ”- Swami Vivekananda."

25 ઑક્ટોબર, 2014

GPSC Main Exam Syllebus-2014

આજનો વિચાર

  • ગરીબ માણસ મંદિર ની બહાર ભીખ માંગે છે જયારે અમીર માણસ મંદિર ની અંદર ભીખ માંગે છે.
  • Vidyasahayak Bharti 2014 (Std 01 to 05) : 
  •  Details | Apply Online last : 14-11-2014
    (Starting Date : 01-11-2014)
     
GPSC CLASS 1 & 2 ( Advt No.9/2014-15) Main Exam Syllebus Declared
Veiw Below :

Main Exam Syllabus :
 Number
SubjectTotal Marks TimeSyllabus
Paper 1 & 2Gujarati & English (Compulsory) 200 Marks3 HoursView
Paper 3Optional Subjects200 Marks3 HoursView
Paper 4 & 5General Studies200 Marks100 Min.View

Total600 Marks  

भारत ने तीसरे जीपीएस उपग्रह को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में भेजा


India-Rocket-PSLV-C-26-ISRO.jpg
रात्रि के गहन अंधकार को भेदकर निकलता भारतीय रॉकेट
भारत ने सफलतापूर्वक इसरो के पीएसएलवी सी 26 के जरिए आईआरएनएसएस उपग्रह को प्रक्षेपित कर दिया। उपग्रह को गुरूवार तड़के एक बजकर 32 मिनट पर प्रक्षेपित किया गया।
इस सफल प्रक्षेपण के बाद भारत अमेरिका और यूरोपीय देशों की तर्ज पर अनपा ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम विकसित करने की दिशा में एक चरण और आगे बढ़ा है।
ठीक एक बजकर 32 मिनट पर लांच पैड से राकेट ने उपर की ओर उठना शुरू किया। और प्रक्षेपण के ठीक 20 मिनट बाद प्रक्षेपण यान ने सफलतापूर्वक 1,425 किलोग्राम वजनी उपग्रह को उसकी कक्षा में स्थापित किया।
साफ है कि रात के गहन अंधकार में भारत के वैज्ञानिकों ने देश के अंतरिक्ष अभियान में एक चमकता हुआ अध्याय और जोड़ दिया।
आईआरएनएसएस 1सी इसरो द्वारा प्रक्षेपित किए जाने वाले सात उपग्रहों की श्रृंखला में तीसरा उपग्रह है।


IRNSS-1C-5-India-GPS-Satell.jpg
भारतीय जीपीएस सिस्टम का तीसरा उपग्रह IRNSS 1C
इसरो ने इस उपग्रह को 17.86 डिग्री के झुकाव के साथ पृथ्वी से सर्वाधिक समीप की दूरी 284 किलोमीटर तथा पृथ्वी से सर्वाधिक दूरी 20,650 किलोमीटर पर सब जियोसिंक्रोनस ट्रॉन्सफर ऑर्बिट (Sub GTO) में स्थापित करने का लक्ष्य रखा था।
पहले इसे 10 अक्तूबर को तड़के एक बज कर 56 मिनट पर भारतीय राॅकेट पीएसएलवी सी26 की 28 वीं उड़ान से प्रक्षेपित किया जाना था। लेकिन तकनीकी कारणों के चलते प्रक्षेपण की तारीख आगे बढ़ा दी गई।
इसरो ने अमेरिका के ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम के भारत की आवश्यकताओं के मुताबिक एक क्षेत्रीय नेविगेशन प्रणाली स्थापित करने के उद्देश्य से सात उपग्रहों की श्रृंखला भेजने का फैसला किया है।
इंडियन रीजनल नेविगेशनल सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) श्रृंखला के पहले दो उपग्रह आईआरएनएसएस 1ए और आईआरएनएसएस 1बी का प्रक्षेपण एक जुलाई 2013 को और इस साल 4 अप्रैल को श्रीहरिकोटा से पहले ही किया जा चुका है।

My School

Get Update Easy